Wednesday, November 09, 2011

जज्बा दुनिया को बदलने का...

अंतराष्ट्रीय बाल महोत्सव में आए श्रीलंका के बच्चे।

प्रेरक गीत पेश करते एसएन सुब्बराव। 
भारत नेपाल श्रीलंका के बीच सरहदों की दीवार ना हो तो कितना अच्छा हो...भला एक फर्क है एक श्रीलंकाई होने में या एक नेपाली होने में या फिर एक पाकिस्तानी होने में...काफी कुछ वैसा ही है जैसे तमिलभाषी, तेलगु भाषी और कन्नड़ भाषी का फर्क है। सरहद के इस पार या उस पार इंसान तो एक जैसे
हैं। बच्चे एक जैसे हैं...सोच एक जैसी है..उड़ान एक जैसी है...कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं दुनिया के अलग अलग देशों से आए बच्चे जो 6 नवंबर से 11 नवंबर
2011 के बीच सोनीपत में चल रहे चिल्ड्रेन फिल्म फेस्टिवल में हिस्सा ले रहे हैं। भारत के अलग अलग राज्यों और श्रीलंका नेपाल के 350 से ज्यादा 8
से 12 साल के बच्चे इस शिविर में पहुंचे हैं। अपने अपने देशों का राष्ट्रगान गा रहे हैं। एक दूसरे की भाषा, लोक व्यवहार को समझने की कोशिश कर रहे हैं...दोस्ती कर रहे हैं। ये सब कुछ संभव कर दिखाया है 82 साल के जाने माने गांधीवादी एसएन सुब्बाराव ने। सुब्बाराव पिछले 12 सालों से बच्चों के लिए इसी तरह का शिविर हर साल नवंबर महीने में लगा रहे हैं। कभी
वाराणसी, जोधपुर, चंडीगढ़ तो कभी कोई और शहर। 

1970 से युवाओं के लिए राष्ट्रीय एकता शिविर लगाने के बाद एक बार ख्याल आया कि ऐसा शिविर बच्चों के लिए भी होना चाहिए। सुब्बाराव जिन्हें देश दुनिया में लोग भाई जी के नाम से जानते हैं, साल के तीन महीने दुनिया के अलग अलग देशों में बच्चों के लिए इसी तरह के शिविर लगाते हैं। शिविर में आने वाले युवा और बच्चे एक संदेश लेकर घर जाते हैं। ये संदेश है भिन्न भाषा भिन्न वेश लेकिन भारत अपना एक देश का....ये संदेश है...भिन्नता में एकता..भारत की विशेषता का।
हम इसी संदेश के भूलते जा रहे हैं तभी तो देश के अलग अलग हिस्सों में अलगाव के सुर उभर रहे हैं। अगर हम एक दूसरे की भाषा और संस्कृति का सम्मान करना सीख जाएं तो देश की बहुत सारी समस्याएं खत्म हो सकती हैं। इसलिए असली जरूरत हथियार बनाने और बेचने की नहीं है बल्कि असली जरूरत तो
मनुष्य निर्माण की है। शिविर में आने वाले बच्चे और युवा जब सात दिनों बाद एक दूसरे से अलग होते हैं तब भावुक हो जाते हैं। उन्हे सात दिन के शिविर में पता चलता है कि हमारा देश कितना विशाल है। इसमें कितनी भाषाएं बोली जाती हैं...कितने तरह के पहनावे हैं...खानपान अलग है...लेकिन फिर भी हम एक हैं। आखिर एक बने कैसे रहेंगे जब तक एक दूसरे से प्रेम करना एक दूसरे को सम्मान करना नहीं सीख पाएंगे। सुब्बाराव 1970 युवाओं के लिए देश भर में शिविर में लगा रहे हैं। इस दौरान हजारों युवा शिविर में आए। उनमें से कई लोगों की इन शिविरों के बाद बदल गई। विविधताओं वाले देश को समझने की सार्थक कोशिश हैं राष्ट्रीय एकता शिविर।

 -     विद्युत प्रकाश मौर्य -

Thursday, July 17, 2008

सुब्बाराव विदेश रवाना






युवाओं के प्यारे भाई जी एसएन सुब्बराव 16 जुलाई को विदेश यात्रा पर रवाना हुए। ये तस्वीरें दिल्ली एयरपोर्ट की हैं। ( सौजन्य- आईसीवाईओ)

Monday, July 07, 2008

सुब्बाराव जी से एक साक्षात्कार



We are reproducing the interview of Bhai ji by Mr David Ian Miller during his visit to USA.
================


Q. You're teaching kids about Gandhi's core ideals -- truth, tolerance and self-help. What are you teaching them about religion?
Bhai ji - Gandhi said that if India was to live in peace we must recognize the value of every religion. India is a nation that has been home to all the religions in the world. Four religions were born there -- Hinduism, Jainism, Buddhism and Sikhism. And we have many Christians and Muslims, as well as members of other faiths.
More than 100 years ago, Swami Vivekananda said that we have to accept the idea that all religions are different paths leading to the same God. Gandhi accepted this proposition, and in his ashram people recite prayers from all religions. They start with a Buddhist hymn, follow it with a Hindu hymn and then comes Islam, Sikhism, Jainism, Christianity -- all religions, one after another. The whole congregation prays all of these prayers.
If we want a peaceful world in the future, the best thing is for everybody to accept -- not only tolerate, but accept -- all religions as true. And that is what we try to inculcate in the minds of the children who are here.
Q. That's a wonderful goal, but how can you expect people to overcome their religious differences? They're so deeply ingrained.
Bhai ji - There are two layers of religion: One is the basic fundamental [ideas], and the other one consists of superficial ritual exercises. If you go to the basis -- speaking truth, being honest, being compassionate, loving thy neighbor -- these are common to all religions. The differences are superficial; one may have a different hairstyle, and one may have some mark on the head. Unfortunately, it is for these superficial differences that people are fighting.
We are all small people, and we have made our gods small. The Christian thinks Christ belongs to him. The Hindus think Rama and Krishna belong only to them, and the Muslim thinks Allah belongs to Islam. And so on. But this isn't correct. Once, when Gandhi was asked, "What is your religion?" he said, "Well, I am a Hindu, I am a Muslim, I am a Christian, I am a Sikh -- I follow the basic principles of all religions."
Q. Do you find that some people have a hard time with this? I mean, if they grew up believing that their religion was the one true way ...
Bhai ji - Unfortunately, for their own reasons, people who think they must be loyal to their religion [also] think that means hating the other religion. Hatred is totally irreligious. No religion has a place for it. If you only take a positive look at every religion, every religion has such noble sentiments in it. Everyone has something to teach.
Q. I read a wonderful story about you: It said that you, armed only with a bag of candy, followed 550 bandits to a mountain cave and somehow convinced all of the bandits to put down their weapons and assist nearby villagers with community development work. Can you tell me more about this?
Bhai ji - Well, I don't know about the candy. My actual weapon was that I sang devotional songs -- songs where I repeated God's name -- and I would talk to them. And I was not alone. There was a group of about 15 or 20 people with me.
Q. So what happened? How did you get them to listen to you?
Bhai ji - First, we approached their friends and sometimes their relations and wives, and we basically said, "There is a better way to live than this." You see, many of these bandits had looted a lot of money but they could not enjoy it. They were always on the run from the law. We told them: "What can you do with all this money? Millions of rupees, but you cannot have a good meal because when you are eating the police come. What is this life? Come back to the mainstream." Slowly they came around. The first installment [of bandits] was only 20 in 1960. Then in 1972 we had a bigger number -- 500. Ultimately, there was a total of 654.
Q. What happened to them after they surrendered?
Bhai ji - They all went to prison. Now they are out living normal lives.
The understanding was that they should serve out their sentences, whatever they were, and that the government would be lenient with them because they had surrendered. Most of them came out with confessions. They said: "Yes, I have committed these sins. Please award me whatever punishment I deserve."
Q. So you just told them they can live a better life, and they were willing to give up their freedom?
Bhai ji - Well, freedom. You see, what happens in someone's life when he kills a policeman, when he kills his enemy, he has all kind of pride: "Oh, yes, I have achieved something." Then life becomes miserable. He can't come back to the society. He has to go into the jungles, running from place to place. It's a long train of regrets.
Q. I've heard that you still work with people and their families after they leave prison and have a very successful rehabilitation program. What makes your program different?
Bhai ji - We ask the government to give them some facility for their lives, some way to support their families. They were earning through the gun, and now they have surrendered those guns to the government. So, on the one hand, they give them land, and on the other they educate their children. I feel very happy when I meet the children of those bandits, who are now well placed in society. One of them, for instance, is a policeman. Another one works for the government.
Q. People have said that you have made a habit of achieving the apparently impossible. Do you have any advice for people who are also trying to achieve seemingly impossible goals?
Bhai ji - It may be difficult for a tiger to change its habits, but for a human being it is not so hard to do. I see how many human beings, in this land, are turning vegetarian. They were meat eaters, and now they will not even drink milk.
I like the statement, "Every saint has a past, and every sinner has a future." So a sinner need not be a sinner all his life. There is hope for correcting any wrongs in one's life and becoming a noble person.
Q. I know you are a devotee of Mahatma Ghandi. Did you actually meet him?
Bhai ji - I just saw him when I was a small child. That's all.
Q. What were the most important things that you learned from Gandhi?
Bhai ji - There are many things. I like the saying that you often see on T-shirts: "One man can make a change." And: "When you are on the right course, you are not in the minority." That's what he believed, and he kept persisting through adversity.
Gandhi came from nothing. He was not a bright student. And as a lawyer he failed in India. Such a man, to become what we call mahatma, it's a really significant change in a human being.
Q. Your teacher is Vinoba Bhave, who has been called Gandhi's spiritual successor. Can you tell me about Vinoba's work and teachings -- the ones that have had the most influence on your life?
His achievement was that he walked 50,000 miles across India. What he did on his walk was collect land from the landed people and redistribute it among the landless. It's interesting because he was a very inward, [with]drawn person. He would rarely go anywhere, but when he was traveling through one part of south India he came across a lot of fighting and ill will. He realized that the fighting was over land. At that time, the Communist Party of India was supporting this fighting. They wanted free distribution of land.
So while talking to some people, he said, "I hope that God will show me a new way of solving this problem." Right in that meeting a person just stood up and said, "Sir, I can donate you 100 acres of land. We can distribute it among the poor people." So he said, "God is sending me a message." That is how he started walking, and he did that for 12 years. It became a movement, the Land Gift Movement. It's still going on today.
Q. Did he ever take another pilgrimage?
One of my friends once asked him, "You walked 50,000 miles, and you distributed land. If you walk again, what will be your mission?" And he said: "H2O in science is water. And in spiritual life there is another formula: M2A." So the friend asked, "What is M2A?" And he responded: "'M' is for meditation, and 'A' is for action. My 50,000 miles were for action, and now I must do double the meditation. So that's what I'm doing."
Q. Do you still believe in the same fundamental things that you did as a child and young man, or have your beliefs changed?
Bhai ji - My home was such that they would not allow a non-Hindu into our house. This is the worst part of Hinduism, treating some people as untouchables, so that they were not supposed to come in. As I grew up, I thought: "I must expand. I must grow."
There is a beautiful saying from maybe 5,000 years ago: "People with small hearts have small homes with four walls. But people with large hearts have the whole world for their family." I think all human beings must cultivate large hearts and consider the whole world as their family.
Q. Have you yourself ever felt like you had to battle with your own prejudice and intolerance of other beliefs?
Bhai ji - Yes. Growing takes time. Luckily, I got into this line of thinking at a very early age. I was only nine or 10 years old when I came in contact with the very kind of thinking taught by Swami Vivekananda. And that thinking was that all religions come from the same source. Just as waters fall from the skies and take different names in the rivers, ultimately they all go into the same ocean. Ultimately, there is only one ocean, or one God. So there should be no fighting at all in the name of religion.
Q. But do you ever look at the world in its struggles over religion and feel frustrated or hopeless -- that people will never learn?
Bhai ji - We have to grow. We grow physically. We grow intellectually. We grow mentally. We must grow socially and spiritually, also. According to my definition, spiritual growth is peace within myself, peace with other people and peace with nature.
Q. And how do we grow in these ways? How do we make peace with ourselves and with others?
Bhai ji - By clearing one's own mind so that all restrictions, all limitations have been broken. That's what I mean by expansion. Having a heart that can accept the whole world as our home.

Friday, June 27, 2008

हमारा परिवार


एसएन सुब्बराव ( भाई जी ) के साथ मैं माधवी और वंश ( यह फोटो हैदराबाद की है)

Friday, October 26, 2007

जनादेश पर राजगोपाल पीवी का साक्षात्कार

कृपया इस लिंक पर जाएं.......

http://www.bhartiyapaksha.com/mag-issues/2007/oct07/mariladaye.html

दैनिक भास्कर में जनादेश यात्रा

‘मिलकर लड़ें लड़ाई तो झुकेगी सरकार’
भास्कर न्यूज
ग्वालियर. एकता परिषद के आह्वान पर जल, जंगल और जमीन पर अपना अधिकार मांगने जनादेश यात्रा पर निकले 20 हजार भूमिहीन गरीब, आदिवासियों ने बुधवार को ग्वालियर जिले से विदाई ली। इस अवसर पर परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीवी राजगोपाल ने कहा कि हम लोग इसी तरह मिलकर संघर्ष करेंगे तो सरकार जरूर झुकेगी और हमारी समस्याएं हल होंगी।
प्रखर गांधीवादी बाल विजय ने सि मौके पर कहा कि इस यात्रा में शामिल होकर मुझे बेहद खुशी हो रही है। उन्होंने सत्याग्रहियों से कहा कि हमें अपना संकल्प पक्का रखना चाहिए। उन्होंने ईश्वर से सत्याग्रहियों को सद्बुद्धि और प्रेरणा प्रदान करने के लिए प्रार्थना भी की।
ग्रामीणों ने की पुष्पवर्षाट्रिपल आईटीएम के सामने जलालपुर में पहला पड़ाव तय करने रुके यात्रियों को विदा करते हुए गांव की महिलाओं ने जहां एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीवी राजगोपाल का तिलक कर श्रीफल भेंट किये, वहीं ग्रामीणों ने पुष्पवर्षा कर अधिकारों के लिए लड़ रहे शोषितों, वंचितों के संघर्ष का समर्थन किया। जलालपुर चौराहे पर प्रीतम लोधी और रास्ते में गंगा मालनपुर के सरपंच वीरसिंह यादव ने यात्रा की अगवानी की।
एकता महिला मंच ने होटल रितुराज के पास पीवी राजगोपाल की आरती उतारी। इस मौके पर मनीषा बहन, ऊषा बाथम, शकुंतला त्यागी, मधु त्यागी, बिस्मिल्ला खां, बबलू तोमर भी मौजूद थे। पुरानी छावनी स्थित महात्मा गांधी सेवाश्रम के संसाधन केंद्र पर सुनील शर्मा, दीपक शर्मा, पंकज अग्रवाल, रेनू तोमर आदि ने यात्रा की अगवानी की।
सबके लिए खुला है, मंदिर है ये हमाराजनादेश पदयात्रा के पड़ाव स्थल पर शाम को होने वाली प्रार्थना सभा में एक अलग ही माहौल देखने को मिलता है। प्रसिद्ध गांधीवादी सुब्बाराव जी की प्रार्थना- सबके लिए खुला है, मंदिर है ये हमारा, के स्वर जब गूंजते हैं तो उन्हें दोहराने के साथ ही पदयात्री, दिनभर की यात्रा की थकान भूल जाते हैं।
पांच हजार जोड़ी चप्पल मंगाईंपदयात्रा में शामिल आदिवासियों में से अधिकांश के पांव में जूते-चप्पल तक नहीं हैं। नंगे पैर रास्ता तय कर रहे लोगों में कईयों के पांव में पहले ही दिन छाले पड़ गये। श्री राजगोपाल ने इन लोगों का हाल देखने के बाद यात्रा की व्यवस्था संभाल रहे साथियों को पांच हजार जोड़ी चप्पलों की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये।
कल सिंधिया करेंगे संबोधितसांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 5 अक्टूबर को मुरैना पहुंचकर जनादेश यात्रा में शामिल पदयात्रियों को संबोधित करेंगे। निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक श्री सिंधिया दोपहर 2.55 बजे एयर डेक्कन के विमान से ग्वालियर आयेंगे और सड़क मार्ग से मुरैना पहुंचकर यात्रा के कार्यक्रम में शामिल होंगे।

जनादेश यात्रा

जनादेश सत्याग्रह से आयेगा बहुत बड़ा बदलाव- सुब्बाराव
जनादेश सत्याग्रह से आयेगा बहुत बड़ा बदलाव- सुब्बाराव,
म.क.पा सांसद अंजान सहित कई गांधीवादियो ने किया आमसभा को सम्बोधित।
राजगोपाल ने दी सरकार को वन कानून तोड़ने की चेतावनी।

आगरा/ 11 अक्टूबर / आजीविका के अधिकार एवं भूमि सुधार की माग को लेकर चलाई जा रही सत्याग्रह पदयात्रा अपने उददेष्यों को पाने में पूरी तरह सफल होगी। देष की आजादी के 60 बर्ष बाद यदि आम गरीब एवं वंचित आदमी पेट के लिये रोटी की मांग करता है तो यह उसका वाजिव अधिकार है तथा सरकार को इसे गंभीरता से लेकर इसके समाधान के प्रयास करना चाहिये। उपरोक्त उदगार ख्याति प्राप्त गांधीवादी विचारक डॉ.एस.एन. सुब्बाराव के है वे आज शाम आगरा के गोपालपुरा से शक्तिमैदान में एकता परिषद के सत्याग्रह पदयात्रियों को सम्बोधित कर रहे थे। डॉ. राव ने कहा कि एकता परिषद एवं उसके अध्यक्ष पी.व्ही. राजगोपाल गरीब एवं बंचित समुदाय के अधिकारों के लिये अहिसंक तरीके से संघर्ष कर रहे है। अब की बार गांधी जयंती के दिन ग्वालियर चंबल की धरती से उन्होने देष और दुनिया के बहुत बड़े सत्याग्रह की शुरूआत की है। जिसमें पी.व्ही. राजगोपाल के नेतृत्व में 25 हजार लोग हमारी राजनैतिक दूषित व्यवस्थाओं को चुनौती देने के लिये दिल्ली तक की पदयात्रा पर निकल पड़े है। उन्होने पदयात्रियों के अनुषासन एवं संकल्प शीलता की सराहना करते हुये कहा कि आप लोगों ने अहिसंक सत्याग्रह के माध्यम से अपनी समस्याओं के समाधान एवं व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई शुरू की है इसे जरूर सफलता मिलेगी।
बैठक को जनादेष सत्याग्रह के नायक पी.व्ही. राजगोपाल ने संबोधित करते हुये कहा कि उन्हे गरीब एवं वंचित वर्ग के हकों की लड़ाई में भरपूर सहयोग एवं समर्थन मिल रहा है। जगह जगह गणमान्य नागरिक समाज सेवी, महिला एवं छात्र छात्रायें सत्याग्रहियों को भरपूर सम्मान एवं सहयोग दे रहे है गरीब वर्ग के लोगों के सम्मान मिलने का यह पहला उदाहरण है यहां तक कि सभी राजनैतिक दलों के नेता भी सत्याग्रहियों से हमदर्दी दिखाने आ रहे है। राजगोपाल ने नेताओं पर कटाक्ष करते हुए कहा कि नेताओं और मंत्रियों के आने एवं न आने से कोई फर्क नही पड़ता अपितु महत्वपूर्ण यह है कि नेताओं को अपनी साठ साल में बंचित एवं गरीब वर्ग क साथ की गई गलतियों का अहसास होना जरूरी है। पी.व्ही राजगोपाल ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार हमें तोड़ने के लिये मजबूर नही करे। यदि सरकार ने गरीब भूमिहीन एवं आदिवासियों को आजीविका के लिये जरूरी वन एवं जमीनों पर अधिकार नही दिये तो वे वन कानून तोड़ने को मजबूर होगें। राजगोपाल की इस बात का सभा स्ािल पर मौजूद हजारों सत्याग्रहियों ने हाथ उठाकर एवं झंडे लहराकर समर्थन किया।
इससे पूर्व आम सभा को मा.क.पा. के सासद अतुल अनजान ने कहा कि देष नेताओं से नही नीतियों से चलता है। उन्होने कहा कि 110 करोड़ जनसंख्या वाले देष में 82 करोड़ गांव में रहते है देष के 66 प्रतिषत लोग गरीबी रेखा से नीचे है। ऐसे में गांव एवं गरीबों की उपेक्षा कर उनके हितों की नीति बनाये बगैर देष तरक्की कैसे कर सकता है। अंजान ने अपने संबोधन में कहा कि योजना आयोग गरीबों का विरोधी है। जल बिरादरी के राजेन्द्र भाई ने कहा कि जो लोग अपनी नदियों की हत्याकर उनके पानी को पीने लायक भी नही छोड़ते वह देखें कि एक टेंकर से एक हजार सत्याग्रही अपनी जरूरत पूरी करते है। एक दिन साथ में यात्रा करने से पता चलेगा कि सत्याग्रही प्रकृति से कम लेते हे।, मेहनत और पसीने से उससे ज्यादा लौटते है। आम सभा में विनोवा जी के अनुयायी बाल विजे भाइ्र ने कहा कि गांधी के अहिसात्मक आन्दोलन को जनादेष सत्याग्रह आगे बढ़ायेगा क्यों कि गांधी जी के बाद यह आन्दोलन कुछ थम सा गया था जिसे राजगोपाल ने फिर से सक्रिय कर दिया हैं आम सभा को गांधी शान्ति प्रतिष्ठान की अध्यक्ष राधा बहन, एकता परिषद के राष्ट्रीय संयोजक रनसिंह परमार, फ्र्रान्स के जॉन विर एवं जनादेष समन्वयन समिति आगरा की अध्यक्ष श्रीमती मनोरमा शर्मा ने भी सम्बोधित किया।

जनादेश यात्रा पर नवभारत टाइम्स में प्रकाशित लेख


Navbharat Times - Breaking news, views. reviews, cricket from across India




अपने हक की तलाश में सफर पर2 Aug 2007, 1910 hrs IST
आशुतोष अग्निहोत्री हुकूमत का मौलिक चरित्र एक ही होता है- जनता से पैसा उगाही का। मुगलों ने जजिया कर लगाया था, अंग्रेजों ने नमक कर लगाया और आज वंचित भूमिहीनों के हितों को नजरअंदाज कर उद्योगपतियों को जमीन देकर कमाई की जा रही है। अपने हित में वंचितों ने आवाज उठाई तो उसे दबा दिया गया। यह किस्सा वर्तमान से अतीत तक फैला है और अगर सुधार नहीं हुआ, तो भविष्य में भी चलता रहेगा। याद कीजिए कि आज से 77 बरस पहले गांधी जी ने वायसराय लॉर्ड इरविन से कहा था कि नमक कानून बदला जाए, वरना 12 मार्च 1930 से वे अपने सहयोगियों के साथ डांडी के लिए यात्रा शुरू करेंगे। हुकूमत ने इस यात्रा की गंभीरता को नहीं समझा। डांडी यात्रा 6 अप्रैल 1930 को पूरी हो गई और अंग्रेजी राज के पतन में मील का पत्थर साबित हुई। 23 दिनों तक 240 मील तक की इस यात्रा में पूरा देश भावनात्मक रूप से बापू के साथ था। सैकड़ों लोग इसमें शरीक होते रहे, लेकिन 77 लोग साबरमती आश्रम से डांडी तक बराबर बापू के साथ रहे। 77 बरस बाद इन पदयात्रियों की संख्या बढ़कर 25 हजार तक पहुंचने वाली है। जल, जंगल और जमीन पर अपने अधिकार की मांग लेकर 25 हजार गरीब, वंचितों का समूह 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन ग्वालियर (एमपी) से दिल्ली के लिए कूच करेगा। ग्वालियर-दिल्ली राजमार्ग पर यह विहंगम दृश्य होगा। इतिहास में ऐसे कई उदाहरण मिलते हैं जब विरोध दर्ज कराने के लिए किसी एक जगह पर लाखों लोग जमा हुए हों। इराक युद्ध के खिलाफ मार्च 2007 में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में करीब 85 हजार लोगों ने रैली निकाली। फरवरी 2003 में इसी मुद्दे पर लंदन शहर में वेस्टमिंस्टर और वाइटहॉल के बीच करीब 15 लाख लोगों ने जुलूस निकाला। लेकिन भारत में 25 हजार लोगों की साढ़े 3 सौ किलोमीटर की यह पदयात्रा अपने आप में मिसाल होगी। कोई हैरानी नहीं कि इस घटना को रेकॉर्ड्स की किताबों में दर्ज कर लिया जाए। इस यात्रा के संयोजक स्वयंसेवी संगठन एकता परिषद ने इसे जनादेश नाम दिया है। इसकी योजना करीब डेढ़ साल पहले ग्वालियर में 10 हजार वंचितों की संसद में बनी थी। तब यह मांग उठाई गई थी कि राष्ट्रीय स्तर पर भूमि वितरण का काम दोबारा किया जाए। जमीन के बारे में ज्यादातर कानून केंद्र सरकार पास करती है, लेकिन यह विषय राज्यों का है। पिछले साल भी 2 से 20 अक्टूबर के बीच ग्वालियर से दिल्ली तक यात्रा निकाली गई थी, लेकिन वह इतने बड़े पैमाने पर नहीं थी। इसी के बाद परिषद ने जनादेश की तरफ से की गई मांगों की प्रति प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सौंपी थी। भूमि सुधारों पर योजना आयोग की उप समिति को भी यह मांगपत्र दिया गया। अंत में सरकार की तरफ से इस बारे में बात करने की जिम्मेदारी ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह को सौंप दी गई। उन्होंने परिषद को भेजे एक पत्र में कहा है कि भूमि सुधार राज्यों का विषय है इसलिए केंद्र ज्यादा कुछ करने की स्थिति में नहीं है। यह बहुत चलताऊ जवाब था। कोई ठोस कदम न उठाए जाने के बाद अब जनादेश यात्रा का आयोजन किया जा रहा है, ताकि राष्ट्रीय भूमि प्राधिकरण की स्थापना, भूमि विवाद के मुकदमों को तय समय में निपटाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने और उनके लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू करने के लिए सरकार पर दबाव बढ़े। 28 अक्टूबर को जनादेश के दिल्ली पहुंचने पर उसकी अगवानी के लिए 25 हजार लोग यहां भी जमा होंगे। पुअरेस्ट एरिया सिविल सोसायटी प्रोग्राम के तहत आने वाले संगठनों का सहयोग इसे हासिल है। यह देश का सबसे बड़ा सिविल सोसायटी प्रोग्राम है, जिसके जरिए कमजोर वर्गों को अपने पैरों पर खड़ा करने की कोशिशें हो रही हैं। साढ़े छह सौ से ज्यादा छोटे-बड़े स्वयंसेवी संगठनों ने ऐसे इलाकों की पहचान की है जहां भूमिहीन, दलित या आदिवासी ज्यादा हैं और उन्हें उनकी जमीनों पर कब्जा नहीं मिल रहा है। पिछड़े इलाकों की हकीकत को समझने के लिए एक मिसाल काफी होगी। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले की ज्युति तहसील में घघरू माडवी के पिता केशव ने कई साल पहले अपनी साढ़े 12 एकड़ जमीन एक गैर आदिवासी को खेती के लिए 4 साल के पट्टे पर दी थी। पट्टे की मियाद खत्म होने के बाद भी जमीन उसे वापस नहीं मिली। 20 साल तक मुकदमा लड़ने के बाद ही हाई कोर्ट के फैसले पर घघरू को जमीन वापस मिल पाई। इन 20 बरसों में उसने हर तरह की तकलीफ झेली, जिसका कोई मुआवजा मिलने से रहा। गढ़चिरौली की गिनती देश के सबसे पिछड़े इलाकों में की जाती है। जिले के अस्सी फीसदी से ज्यादा गांवों में पक्की सड़कें तक नहीं हैं। गैर आदिवासियों द्वारा आदिवासियों की जमीन पर कब्जे का सिलसिला पीढ़ियों से चला आ रहा है। आदिवासियों की जमीनें पट्टे, फर्जी कागजात या जोर जबर्दस्ती से छीन ली जाती हैं। ज्युति तहसील के सभी 82 गांवों में जमीन पर कब्जे की घटनाएं मिल जाएंगी। कुछ गांवों में तो कोलम और गोंड आदिवासियों की पूरी आबादी को ही बेदखल कर दिया गया। इसी नाइंसाफी के खिलाफ आंदोलन अब धीरे-धीरे फैल रहा है। जनादेश यात्रा इस सिलसिले में मील का पत्थर साबित हो सकती है, लेकिन असल सवाल तो यही है कि क्या राज्य सत्ता इस आवाज को सुनेगी? उसे सुनना चाहिए, अगर हालात की गंभीरता का उसे अहसास है। अब दिल्ली को तय करना है कि वह सत्याग्रह की राह पर चल रहे देश के लाखों दलित, भूमिहीन और वंचितों को उनका वाजिब हक दिलवाएगी या उन्हें उनके हाल पर रहने देगी। अगर सरकार अब भी नहीं चेती तो नंदीग्राम किसी एक जगह का नाम नहीं रह जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय की 2004-05 की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक 2 साल पहले 9 राज्यों के 76 जिले नक्सल प्रभावित थे। 2 साल के भीतर ये 12 राज्यों में फैल गए। आज 172 जिलों में नक्सली सक्रिय हैं। स्पेशल टास्क फोर्स और पुलिस का आधुनिकीकरण जैसे तरीके इस बगावत के सामने बेअसर साबित हुए, क्योंकि समाधान कहीं और है। वंचितों को उनका हक देने से ही बात बनेगी, यह समझकर भी अनजान बनने का दिखावा सरकार कब तक करती रहेगी?

Monday, November 27, 2006

Jamnalal Bajaj Award to Subbarao

सुब्बाराव को जमुनालाल बजाज एवार्ड
प्रख्यात गांधीवादी और राष्ट्रीय युवा योजना के निदेशक डा. एसएन सुब्बराव को प्रतिष्ठित जमुनालाल बजाज पुरस्कार से नवाजा गया। यह पुरस्कार उन्हें 6 नवंबर को मुंबई में इन्फोसिस के संरक्षक एनआर नारायणमूर्ति के हाथों मिला। इस पुरस्कार में उन्हें 5 लाख रुपए की राशि प्रदान की गई।
इससे पूर्व सुब्बराव जी को राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार दिया जा चुका है। उन्हें काशी विद्यापीठ वाराणसी ने मानद डाक्टरेट की उपाधि भी प्रदान कर रखी है।

Wednesday, May 17, 2006

camps at Pune, Jaipur and Varanasi

Camp: Gwalior M.P.
May 7, 2006
My dear brother/sister,
Some of our friends sat in a meeting this morning here. We are all disturbed that there is so much violence in different parts of India and yet, the Youth Ministry is not releasing grants to N.Y.P. for doing camps. But Mother India is so, government help or no help and ours, we must do what we can.
I am glad that in the meeting some camp proposals have been finalised. Let us do them well and also invite the Government to see what youths can do without Government help. We must try to have youths from all states in the camps, even when there is no travel money. Railway concession is available and that is a big help.
I hope you have deputed youths to join the camp at PUNE in Maharashtra from May 29 to June 4, 2006. Local friends are organising food and accommodation. But no travel money. In Pune, we will have on evening at the Agha Khan Palace, where Mahatma Gandhi was held prisoner.
Friends in Jaipur invite you for a camp from June 18 to 24, 2006. They are providing us food and accommodation and also one-way-travel cost up to Rs 500/- that is big help, in addition to train concession. We must have 300 to 350 youths from all states together. Contact addresses:(a) Shri Hanuman Sharma N.Y.P. (b) Shri Sadashiv Sharma N.Y.P.(c) Shri Dharmveer Kateva Tel:(0141) 2235275
Ajay Pandey and his young friend Anurag Kushwaha have offered to host a Communal Harmony Camp for 300 to 350 youths from all over India from June 29 to July 4, 2006. You will also appreciate his or her offer to pay up to Rs 500/- towards travel expenditure of each camper. So, please send names for this camp also. All these camps are during hot months. So, please send youths who can bear the heat. I hope you will help make all these camps successful. With lots of love to you all.
Your brother,
(S. N. Subba Rao)